छठ पूजा हिंदी कविता | Chhath Puja Poem In Hindi

छठ पूजा हिंदी कविता ( Chhath Puja Kavita Poem In Hindi)

Chhath Puja is one of the most significant celebrations of India. This celebration is commended in many pieces of Bihar, Uttar Pradesh and furthermore in certain pieces of Nepal. The celebration begins in the long stretch of Kartika on its 6th day. The celebration goes on for four days and is committed to venerating Ruler Sun for looking for his approval and petitioning God for keeping the family solid and well off. This promising day is seen by offering supplication to Master Sun and bringing plunges into the sacred waters of the Ganga. The day praises the kindhearted demonstration of Master Sun and his significant other for conceding this wonderful life on the earth.

छठ पूजा हिंदी कविता (Chhath Puja Poem In Hindi)

छठ महापर्व

छठ सिर्फ़ एक पर्व नहीं
संस्कृति और सभ्यता की पहचान है.
आत्मिक भावनाओं से जुड़ा
लोक संस्कृति का आधार है।
सूर्य उपासना का महापर्व है छठ
उगते सूर्य के साथ डूबते सूर्य को अर्घ्य देना,
कार्तिक शुक्ल पक्ष के पष्टि दिवस को
आस्था संग मनाया जाने वाला त्यौहार है छठ ।
दीनानाथ सूर्यदेव की बहन छठी माता
और प्रकृर्ति के षष्टि भाग कात्यायनी स्वरूप..
छठी मैया और सूर्यदेव के अराधना का
प्रकृति संग सूरज देव के पूजन का महापर्व है छठ ।

प्रथम दिवस नहाय खाय
द्वितीय दिवस खरना
तृतीय दिवस सांध्य अर्ध्य
चतुर्थ दिवस सूर्योदय अर्ध्य
कठिन उपवास का पर्व है छठ
संपूर्ण परिवार को एक साथ
एक आँगन में लाने का महापर्व है छठ.
नहाय खाय कद्दू भात से छठ का आग़ाज़ हैं
ठेकुआ, खीर रोटी खरना का प्रसाद है।
सूप, दोरा में ईख, केला, नारियल सज के तैयार है
संपूर्ण श्रृंगार संग नाक से माथे तक सिंदूर लगा,
सपूली हाथ में रख, जल में खड़े होकर
छठवर्ती का डूबते और उगते सूर्य को अर्ध्य
चार दिवस को कठिन वर्त का त्यौहार है छठ ।

छठी मैया से हर छठवर्ती की अराधना है।
हर परिवार को सुख समृद्धि और खुशहाली देना
सदियों से चली आ रही लोक आस्था का महापर्व
मनुष्य जुड़ जाए प्रकृति और अपनी मिट्टी से
छठी मैया हम उपासक को अपना आशीर्वाद देना ।

छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं!

Chhath Puja Poem In Hindi

अन्य पढ़े:

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.